रविवार, 4 नवंबर 2012

सवाल

वन में अकेली बैठी सीता
सोच रही थी
राम के निर्वासन में बदा था
मेरा भी निर्वासन /
पर मेरे  निर्वासन में
राम कहां  हैं ?

राम ,  राजा राम तो बन गएं
पर पति की आस्था कहां रख पाएं  ?
साथ चलने की शपथ मैंने निभाई
परन्तु राम के जेहन में
केवल धोबी की छवि आई /

राम , तुम धन्य हुए
पर सीता से छिन्न भी हुए/    

2 टिप्‍पणियां:

  1. Ram ka nirwasan abkibar jangal ke bajay janta ke bich tha jiske chalte log Ram-rajya jante hai Sita rajya nahi.Uttar ki(ans.) disha me ek kadam.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. karna bareja ji aap bhi ek nishthur purush hi hain. isliye aap aisa hi jawab ke bare mein sochengay

      हटाएं