शनिवार, 3 सितंबर 2011

मुबारकें

  तेरे दिल में कोई और घर कर  गया
  तुझसे कैसे अब मैं मुबारकें लूँ ?
  कभी मंजिल हमारी एक थी
    आज  राहें  जुदा हैं

तू रह अपने हमसफ़र के  साये में 
मैं भी अब तनहा एक सफ़र में हूँ /

तू मुबारकों में रह  आमीन
मैं अभी  बद्ददुआवों  के  सायों में हूँ/

तू  चलाचल  अपनी  आरजूओं की मिन्नत में
 ख्वाहिशों की बंदगी  कर
मैं अभी जिंदगी  वीराने के बसर में हूँ /

7 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत नज़्म . आभार .नई सुबह जरुर आएगी .

    उत्तर देंहटाएं
  2. कृपया टिपण्णी करने के लिए वर्ड वेरिफिकेसन हटा दे .

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल को छूती रचना.. बहुत अच्छा लगा.
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम तो मुबारकें दे ही सकते हैं इस बेहतरीन भावपूर्ण नज़्म के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी को बहुत - बहुत शुक्रिया नज़म को पसंद करने के लिए /

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी भी नज़्म को उसके कद्रदान ही खूबसूरत बनाते हैं /

    उत्तर देंहटाएं