शनिवार, 17 सितंबर 2011

नरेन्द्र मोदी का नया अवतार

आज से गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन दिनों के लिये अनशन पर बैठकर एक नई  राजनीतिक बिसात बिछा  चुके हैं / उन्होंने इस अनशन को शुद्धिकरण का नाम दिया है पर राजनीतिक   हलकों में इसके कुछ और अर्थ लगाये जा रहे हैं /  तीन दिनों के अनशन के बाद नरेन्द्र मोदी का क्या नया अवतार होगा ? कहीं इसके पीछे कहीं कोई राजनीतिक मंशा तो नहीं छिपी है ?  वैसे भी इन राजनीतिक  नेताओं के हर  कार्यकलापों के पीछे कोई न कोई राजनीतिक  चालें  छिपी रहती हैं /  अभी इन नाटकों को देखकर लगता है कि देश में अनशनों का फैशन चल पड़ा है / अनशन जैसे कारगार हथियार का अगेर इसी तरह   इस्तेमाल    होता रहा तो यह हथियार भी एकदिन भोथरा हो जायेगा /

4 टिप्‍पणियां:

  1. वर्ड वेरिफ़िकेशन आपने हटा ही लिया आखिर में।
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनशन जैसे कारगार हथियार का अगर इसी तरह इस्तेमाल होता रहा तो यह हथियार भी एकदिन भोथरा हो जायेगा ।

    संध्या जी सच कहा है आपने कि यदि छोटे-छोटे मुद्दों पर अनशन होता रहा तो एक दिन ऐसा भी आएगा जब अनशन महत्वहीन हो जाएगा एवं लोगों के अंदर भी इसकी अहमियत नही रहेगी पोस्ट अच्छा लगा ।
    धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं