सोमवार, 6 दिसंबर 2010

विकीलीक्स का तहलका

अभी विकीलीक्स के खुलासों    से दुनिया भर में तहलका मचा हुआ है सबसे ज्यादा  तो अमेरिका के माथे पर बल पड़ा हुआ हैं . विकीलीक्स की सूचनाओं से  दुनिया भर के देशों के रिश्तों पर असर तो पड़ेगा ही . इसके जरिये बहुत सारे देशों के चेहरों पर से नकाब उतर चुका है . अमेरिका को माफ़ी तक मांगनी पड़ रही है. पर यह सोचने वाली बात है कि आखिरकार इतने दिनों बाद  विकीलीक्स वेबसाइट पर सूचनाओं को तूफ़ान क्यों उठा  है ? इस तूफ़ान में सिर्फ तमाशा तो देखने को नहीं मिलेगा?

2 टिप्‍पणियां:

  1. avi jo banaras me blast hua,wah bhrashtachar se desh ka dhyan bhatkane ke lie kiya gya.jab v netaon ke upar koi bada blame lagta h aisi hi ghatnao ko anjam diya jata h janta ko asal muddo se dhyan bhatkane ke lie.aap ispar kuchh vistar se likhen.ranjit

    उत्तर देंहटाएं
  2. रंजित जी , मुझे नहीं लगता कि बनारस में जो आतंकी कारवाई हुई है वह भ्रष्टाचार से हमारा ध्यान bhataka sakegi

    उत्तर देंहटाएं