सोमवार, 3 फ़रवरी 2014

आँसू की एक बूँद

एक दिन 
आँसू  की एक बूँद 
अचानक 
खिलखिला पड़ी ......

पूछने पर बताया ..
अब 
मैं 
किसी की आँखों में 
नहीं रहती .....


मैने भी हँसना सीख लिया है ..../ 

1 टिप्पणी:

  1. इन प्यारी कविताओं के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं