सोमवार, 15 अक्तूबर 2012

दागदार चेहरे


   अपने हिस्से जिंदगी की धूप
थोड़ा ज़्यादा ही आई
इस धूप में साथ सबने छोड़ दिया था
सबके अपने तर्क थे
कुछेक मजबूरियों की शरण में गये थे
कुछ एक ने तीसरे पक्ष को थामा था
कुछ समय के साथ अपने रंग बदल लिए थे
धूप ने सबके मुखौटे उतार दिए थे
चेहरे जो पहले उजले थे
अब दागदार नज़र आ रहे थे /  

2 टिप्‍पणियां:

  1. din ke ujjale me jo chehre dagdar lagte hai wah rat ke andhere me surksha ke rup me pahredar hote hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. vijoya dashmi sachai ki burai par jeet ka pratik hai ujjala prakash ko bhagata hai par prakash chakachoundh ho tibrta ho ashahniya ho to shitlata ke liye chhanw ki jarurat padti hai jaha se andhkar ki suruat hoti hai jo apne me sametati hai dagdar chehre tibrata ki dar se apno ki andhkar ki taraf ppalayan kar jate hai

    उत्तर देंहटाएं